गुरुवार, 20 अगस्त 2020

JAIGOVIND SHASTRI PROFILE

 PROFILE PT JAIGOVIND SHASTRI

Renowned astrologist Pt. Jayagovind Shastri has been involved in the welfare work of people through Vedic astrology, yoga, meditation and devotional rituals for more than three decades. Pt. Jaigovind Shastri's primary education was initiated from Sultanpur. Whereas he did special studies of Vedadhyayana-yoga from Maharishi Ved Vigyan Vidyapeeth, located in Sehore district of Madhya Pradesh and Maharishi Vedic Vishwaprashasan Peeth located in Rishikesh, Uttarakhand .Known for his astrological prediction, 

Pt. Jayagovind Shastri has been writing since 1988 for various well-known newspapers, magazines and websites of the country. In which 'Dhaai din Zara Bachke', ' Sitaaro ke Sitaare' , 'Ye Saat Din' , etc. all these astrological columns were very famous. Pt. Jaigovind has been doing special work of annual horoscope, articles related to planet and transit, astrology related questions and answers etc. through all the media.For the past several years, 

Pt. Jayagovind has been working to spread the knowledge of astrology not only through print media but also through electronic media. He has done the task of showing the right direction to people by conducting daily astrological horoscope, astrological analysis of stock market daily through live telecast on all the prestigious TV channels of the country. He was awarded the title of 'Stock Guru' in view of all the accurate predictions and analysis he had done in the Financial Market Sector . Pt. Jaigovind Shastri is involved in discussion on national and international topics and astronomical events from time to time on all the Indian radio channels .

Pt. Jayagovind Shastri has accurately analyzed the horoscopes of well- known politicians and industrialists, Hollywood and Bollywood actresses and actors . Pt. Jayagovind has done special research on all the big personalities of the country in the horoscopes, Bhairon Singh Shekhawat, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Mayawati, Sonia Gandhi, Maneka Gandhi, Sharad Pawar, P. Chidambaram, Lalu Yadav, Mulayam Singh Yadav , Kalyan Singh, Vidyacharan Shukla etc. While foreign politicians have done a full astrological analysis of George Bush, Janakeri, Bill Clinton, Kofi Annan, Yasser Arafat, Mikhail Gorvachyokh, Pervez Musharraf.

Pt. Jayagovind has also made accurate predictions for the film stars. These include Swara Empress Lata Mangeshkar, Dilip Kumar, Devanand, Rajesh Khanna, Amitabh Bachchan, Dharmendra, Jitendra, Shatrughan Sinha, Yash Chopra, Subhash Ghai, Mahesh Bhatt, Maqbool Fida Hussain, Muzaffar Ali, O.P. From Nayyar to actors like Salman Khan, Shah Rukh Khan, Aamir Khan, there are famous actresses like Hema Malini, Saira Banu, Rekha, Shabana Azmi, Sridevi, Madhuri Dixit,Jaya Bachchan.

Pt. Jayagovind has done an accurate analysis in horoscopes of Internationl Film Stars and players as well.  These include Michael Jackson, Halle Berry, John Lennon, Sharon Stone, Andre Agassi, Eliza Beth Taylor, David Cassidy, Peter Hook, Fats Domino, Tony Denza, Jennifer Lopez, Rob Thomas, Gary Owens, Renee Zellweger, David Byrne, Lee Majors, Smokey Robinson, George Lucas, Tony Hawk, Cameron Diaz, including many big personalities.

Pt. Jayagovind Shastri has a deep affection for the cricket world, so he has done a thorough analysis of all the famous players associated with Indian cricket by doing thorough research on their Horoscopes. The players of the cricket world, for whom he has done an accurate astrological analysis include Vijay Amrit Raj, Sunil Gavaskar, Kapil Dev, Mohinder Amarnath, Ravi Shastri, Dilip Vengsarkar, Krishnachari Srikkanth, Javagal Srinath, Kiran More, Sachin Tendulkar, Mohammad Azharuddin, Saurabh Ganguly, V.V.S. Laxman, Anil Kumble, Virender Sehwag, Mahendra Singh Dhoni, Brian Lara, Jashan Gillespie, Michael Jordan, David Wackham, Jim Kurier, Shane Warne, Steve Wa, Nasir Hussain, Andy Flower, Ian Bishop, etc.

Pt. Jayagovind Shastri has made many big predictions at national and international level, which proved to be true literally. Some of the most famous predictions made by him are as follows - 

1. With regard to the politician Atal Vihari Bajpayee becoming Prime Minister.

2. Regarding Sonia Gandhi becoming Congress President.

3. Regarding the disintegration of the Janata Dal and never being tied together into a thread.

4. Regarding the selection of APJ Kalam for the post of President of India.

5. Regarding Narendra Modi's election victory and becoming the Chief Minister of Gujarat.

6. Regarding Bush's defeat in the Battle of George Bush and Laden and achieving nothing.

7. In relation to Ajit Jogi's election defeat

8. With regard to the defeat of Vasundhara Raje in Rajasthan and the victory of Ashok Gehlot.

9. With regard to Sadhvi Uma Bharti becoming the Chief Minister of Madhya Pradesh.

10. In relation to Sheila Dixit's election victory and Madanlal Khurana's defeat.

11. With regard to the presidency of Pranab Mukherjee as President of India.

12. With regard to Narendra Modi as the Prime Minister of India.

13. With respect to Asharam Bapu going to jail.

14. With regard to the offer of Chief Minister by Kejriwal.

15. Regarding LK Advani not to become Prime Minister again.

Awards and Honors - 

In the field of religion, yoga and astrology, Pt. Jayagovind Shastri has been awarded with many great honors. 

Some of the accolades that he earned ,cannot be forgotten in the country and abroad are as follows -    

1.April 2004 Simhastha - Respect for Astrology in Ujjain.

2. Honored by the Prime Minister, Government of India on 12 May 2004.

3. Honored by the Chief Minister of Delhi Government Smt. Sheela Dixit on 11 April 2007.

4. Astrology Guru Honors on 11 June 2011 in Port Louis, Mauritius.

5. Honored by the Government of Canada on 11 May 2013 in Mississauga.

6. The title of 'Falit Vetta' in the International Astrology  Conference.

7. Pt. Jaygovind Shastri, a prominent Jyothishacharya awardee, was presented by Amar Ujala group in Jyotish Mahakumbh, Dehradun, Governor of Uttarakhand Mrs. Baby Rani Maurya in may 2018contact- MB.9811046153,9868535099 jaigovindshastri@gmail.com


बुधवार, 3 जून 2020

5 जून को चंद्रग्रहण नहीं, अफवाहों से रहें सावधान !

5 जून को चंद्रग्रहण नहीं, अफवाहों से रहें सावधान !
ज्येष्ठ शुक्लपक्ष पूर्णिमा शुक्रवार 5 जून को चंद्र ग्रहण को लेकर अफवाहों का बाजार गर्म है | कई लोग जनता को डराने की दुकान खोलकर बैठ भी गए हैं | टीवी, अखबार पत्र पत्रिकाओं में डरावने कालम भी खूब लिखे जा रहे हैं जो समाज के लिए गलत सन्देश देने अथवा जनता को गुमराह करने से अधिक कुछ भी नहीं है | सोसल नेटवर्किंग पर भी इससे सम्बंधित भ्रमित करने वाले विडिओ की भरमार है, किन्तु जनमानस के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी यह है कि इसदिन चंद्रग्रहण के रूप में प्रचार-प्रसार की जाने वाली वालीघटना चंद्रग्रहण है ही नहीं | इस तरह का योग जब भी बनता है उसे चंद्रमालिन्य योग कहते हैं इसे ग्रहण नहीं कहा जाता | इस घटना  में पृथ्वी की उपच्छाया में प्रवेश करने से चंद्रमा की छवि धूमिल दिखाई देती है | कोई भी चन्द्रग्रहण जब भी आरंभ होता है तो ग्रहण से पहले चंद्रमा पृथ्वी की परछाई में प्रवेश करता है जिससे उसकी छवि कुछ मंद पड़ जाती है तथा चंद्रमा का प्रभाव मलीन पड़ जाता है |जिसे उपच्छाया कहते हैं | इसदिन चंद्रमा पृथ्वी की वास्तविक कक्षा में प्रवेश नहीं करेंगे अतः इसे ग्रहण नहीं कहा जाएगा | ये पृथ्वी की परछाई से ही बाहर आ जाएंगे इसलिए ग्रहण से संबंधित किसी भी तरह का दोष अथवा दुष्प्रभाव पृथ्वी वासियों पर लागू नहीं होगा | सभी बारह राशियों पर भी किसी तरह को कोई प्रभाव-दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा | आपसभी को अपनी राशि और उससे घटने वाली फलित घटनाओं को लेकर किसी भी तरह से परेशान होने की आवश्यकता नहीं है | सूतक और खान-पान तथा गर्भवती महिलाओं को लेकर भी किसी तरह का कोई भेद अथवा दोष विचारणीय नहीं होगा | इसदिन खगोलीय घटना के अनुसार चंद्रमा पृथ्वी की परछाई में प्रवेश करके वहीं से वापस निकल जाएंगे जिसके परिणामस्वरूप चंद्रमा का बिम्ब केवल धुंधला दिखाई देगा काला नहीं होगा, न ही किसी तरह का ग्रास होगा | इसलिए इसदिन पूर्णिमा तिथि से सम्बंधित किये जाने वाले जप-तप, पूजा पाठ, श्री सत्यनारायण कथा, तीर्थ क्षेत्रों में तथा गंगा, यमुना नर्वदा आदि पवित्र नदियों में स्नान दान-पुण्य का महत्व यथावत रहेगा | अतः आप जो भी कार्य करें उसे पूर्णिमा तिथि समझकर करें, चन्द्रग्रहण समझकर नहीं | इस चंद्रमालिन्य संयोग को भारतवर्ष के साथ-साथ अफ्रीका दक्षिण, पश्चिम अमेरिका, यूरोप, एशिया, ब्राजील, प्रशांत महासागर तथा हिंद महासागर आदि के क्षेत्रों से भी देखा जा सकता है |

गुरुवार, 14 मई 2020

बृहस्पति हुए वक्री आपकी राशि पर कैसा रहेगा प्रभाव


आजकल अतिचारी होकर उत्तराषाढ़ा नक्षत्र के द्वितीय चरण तथा मकर राशि में गोचर करते हुए देवगुरु बृहस्पति 14 मई की की शाम 07 बजकर
56 मिनट पर 4 माह के लिए वक्री हो रहे हैं, ये पुनः 13 सितंबर की सुबह 06 बजकर 10 मिनट पर मार्गी होंगे | धनु तथा मीन राशि के स्वामी
गुरु का वक्री होना पृथ्वी वासियों विशेष करके केंद्र एवं राज्य सरकार के कैबिनेट मंत्रियों, साधु-संतो और अन्य आध्यात्मिक गुरुओं के साथ-साथ
प्राकृतिक आपदाओं, आंधी तूफानों के अधिक से अधिक आने के संकेत है |
फलित ज्योतिष में वक्री गुरु से तात्पर्य-
संहिता ज्योतिष के अनुसार किसी भी ग्रह के वक्री होने का अर्थ है, उस ग्रह का अपने ही गंतव्य मार्ग से पुनः वापस लौटना अथवा मार्ग से मुह फेर
लेना प्राणियों को उसग्रह के मार्गी होने से मिल रही सकारात्मक ऊर्जा का बाधित होना-रुकजाना | गुरु को सृष्टि का आध्यात्मिक ज्ञान प्रदाता कहा
गया है, ये ब्रह्मज्ञान, शिक्षण संस्थाओं, भारी उद्योगों, बैंकों, जीवन बीमा निगम जैसी संस्थाओं, गैस के भंडारों, धार्मिक कार्यों, धर्माचार्यों एवं शासन
सत्ता के सलाहकारों के कारक हैं | इनके वक्री होने की घटना को व्याहारिक दृष्टि से देखें तो महत्व समझ में आयेगा कि जो व्यक्ति आप को
सद्बुद्धि-सन्मार्ग पर ले जाता है वही आप से मुहफेर ले तो कैसा लगेगा, आप पर क्या गुजरेगी ! बस वक्री का अर्थ यही होता है | इनके वक्री होने का
सर्वाधिक असर संत-महात्माओं पर होता है | उनके चाल-चलन पर आरोप प्रत्यारोप लगने आरम्भ हो जाते हैं, कहीं न कहीं उनकी सामाजिक गरिमा का
ह्रास होने लगता है यहाँतक कि, उनपर हमले होते हुए भी देखा गया है प्राचीन काल में इसी गुरु की वक्री अवस्था में असुर राजाओं द्वारा संत महात्माओं
और यज्ञकर्ता वैदिक ब्राह्मणों पर अत्याचार होता रहा है इसलिए इनका वक्री होना इन सबके लिए बेहद अशुभ संकेत है |
गुरु द्वारा आत्मबोध का ज्ञान-
प्राणियों की जन्मकुंडली में बृहस्पति की शुभ स्थानों की स्थिति उन्हें आत्मबोध की ज्योति प्रदान करती है अतः इनका वक्री होना, उच्च राशि अथवा
नीचराशिगत होना, स्वगृही, मित्रगृही, दिग्बली, दृष्टि सम्बन्ध आदि सब जीवन के अति महत्व पूर्ण अंग हैं | ये जब मार्गी रहते हैं तो बुद्धि को सुचारू
रूप से सही दिशा में चलाते है किन्तु वक्री होने पर मन-मस्तिस्क में भय-भ्रम और विषाद
पैदा कर देतें हैं | जिनकी कुंडली में गुरु अशुभ भाव में हों अथवा अशुभ राशि में गोचर कर रहे हों वे इस अवधि में अधिक परेशान होंगें, क्योंकि
अशुभ गुरु के समय व्यक्ति भावावेश में कई ऐसे निर्णय ले लेता है जो स्वयं उसी के लिए आत्मघाती सिद्ध होते हैं | यहाँतक कि सरकारें भी न्याय
और नितिपरक निर्णय लेने में असमर्थ हो जाती हैं मंत्रिमंडल में अधिकतर फेरबदल अथवा विस्तार ऐसी ही अवधि में होते हैं | सभी राशि वालों के
लिए यह समय अति सूझ-बूझ और सावधानी बरतने का है, अतः संयम से काम और निर्णय लें |
गुरु के अशुभ प्रभावों से बचने के उपाय-
अशुभ गुरु की शांति के लिए ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरवे नमः, मंत्र का जप करना तथा गुरुवार के दिन पीले वस्त्र धारण करना उत्तम रहेगा | बृहस्पति
का ही गायत्री मंत्र ॐ अंगिरो जाताय विद्महे वाचस्पतये धीमहि तन्नो गुरु प्रचोदयात् | का जप हर तरह की गुरुजन्य परेशानियों से मुक्ति देगा |
पञ्चपल्लव जिनमें आप, पाकड़, पीपल, गूलर तथा बरगद के वृक्षों का आरोपण करने के साथ साथ गुरु के प्रिय वृक्ष नीम, अनार और कनेर के
वृक्षों का रोपण करना भी आपके संकल्प सिद्धि में सहायता करेगा |
वक्री बृहस्पति का आपकी राशि कैसा रहेगा प्रभाव-
मेष राशि- राशि से दशमभाव में गुरु कार्यक्षेत्र में अनिश्चितता का माहौल बनाएंगे किंतु, शुभ ग्रह होने के फलस्वरूप यह नौकरी
में पदोन्नति और स्थान परिवर्तन का भी योग बनाएंगे | नई सर्विस के लिए अनुबंध पर हस्ताक्षर करना चाहें तो अवसर अच्छा रहेगा |
विदेश यात्रा अथवा विदेशी नागरिकता के लिए आवेदन आदि करना शुभ रहेगा |
वृषभ राशि- राशि से धर्मभाव में बृहस्पति का गोचर आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा तो बढ़ाएगा किन्तु धर्म-कर्म के मामलों में अधिक
खर्च होगा | संतान संबंधी चिंता से कुछ मानसिक अशांति रहेगी | नवदंपति के लिए संतान प्राप्ति एवं प्रादुर्भाव के योग बन
रहे हैं | मकान वाहन से संबंधित क्रय का संकल्प पूर्ण होने के योग |
मिथुन राशि- राशि से अष्टमभाव में बृहस्पति मिले-जुले फल देंगे | स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव रहेगा | कार्य क्षेत्र में भी षड्यंत्र का
शिकार होने से बचे | अचल संपत्ति के साथ वाहन खरीदने का संकल्प पूर्ण होगा | परिवार के वरिष्ठ सदस्यों से मतभेद ना पैदा
होने दें | आपके अपने ही लोग नीचा दिखाने की कोशिश करेंगे, सावधान रहें |
कर्क राशि- राशि से सप्तमभाव में बृहस्पति का गोचर करना दैनिक व्यापारियों के लिए शुभ रहेगा किंतु, शादी विवाह से संबंधित
वार्ता में थोड़ा विलंब हो सकता है | ससुराल पक्ष से रिश्ते बिगड़ने न दें, इस अवधि के मध्य साझा व्यापार आरंभ करने से बचें |
उच्चाधिकारियों से भी मधुर संबंध बनाए रखें, शासन सत्ता का सदुपयोग करें |
सिंह राशि- राशि से छठें शत्रुभाव में बृहस्पति का वक्री होना गुप्त शत्रुओं से परेशान करेगा | इस अवधि के मध्य अधिक कर्ज के
लेन-देन से और फिजूलखर्ची से भी बचें | कोर्ट कचहरी के मामले बाहर ही सुलझा लें तो बेहतर रहेगा | कष्टकर यात्रा भी
करनी पड़ सकती है, किसी अप्रिय समाचार से मन अशांत होगा |
कन्या राशि- राशि से पंचमभाव में गुरु के वक्री होने से प्रेम संबंधी मामलों में तो नुकसान हो सकता है किंतु शिक्षा प्रतियोगिता में
अच्छी सफलता मिलेगी संतान के दायित्व की पूर्ति होगी नव दंपति के लिए संतान प्राप्ति एवं प्रभाव कभी योग बन रहा है | परिवार
के सदस्यों से लाभ होगा और बड़े भाइयों से मतभेद पैदा होने दें |
तुला राशि- राशि से चतुर्थ भाव में गुरु का वक्री होना पारिवारिक एवं मानसिक अशांति लाएगा | यात्रा के समय सामान चोरी होने
से बचाएं | माता पिता के स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहें फिर भी, मकान वाहन से संबंधित क्रय का संकल्प पूर्ण होगा | कार्यक्षेत्र
का विस्तार होगा और सामाजिक जिम्मेदारियां बढ़ेंगी |
वृश्चिक राशि- तृतीय पराक्रमभाव में गुरु का वक्री होना आपके स्वभाव में उग्रता ला सकता है इसलिए संयम बरकरार रखें |
सामाजिक कार्यों के प्रति जिम्मेदारियों का निर्वहन करेंगे | संतान संबंधी चिंता से मुक्ति मिलेगी | शादी विवाह से संबंधित
वार्ता भी सफल रहेगी दैनिक व्यापारियों के लिए विशेष शुभ  |
धनु राशि- राशि से द्वितीय धनभाव में बृहस्पति का वक्री होना मिलाजुला फल देगा किसी महंगी वस्तु का क्रय करेंगे | आकस्मिक
धन प्राप्ति के योग भी बनेंगे | परिवार में आपसी मेलजोल बनाकर रखें, टकराव की स्थिति उत्पन्न होने दें | कार्यक्षेत्र में षड्यंत्र का
शिकार होने से बचें | उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बनाकर रखें
मकर राशि- आपकी राशि में ही वृहस्पति का वक्री होना मानसिक तनाव देगा और कहीं ना कहीं आप में अहंकार का भाव पैदा होगा
इससे बचें | अपनी जिद एवं आवेश पर नियंत्रण रखते हुए कार्य करेंगे तो सफलता मिलती रहेगी | शिक्षा प्रतियोगिता में सफलता
एवं शादी विवाह संबंधित वार्ता सफल रहेगी | दैनिक व्यापारियों के लिए विशेष लाभ |
कुंभ राशि- राशि से हानिभाव में बृहस्पति का वक्री होना कुछ अप्रिय सूचना दे सकता है | भागदौड़ की अधिकता रहेगी कष्टकर यात्रा
भी करनी पड़ सकती है | अधिक व्यय के परिणामस्वरूप आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ सकता है | गुप्त शत्रुओं के साथ ही
इस अवधि के मध्य उधार देने से भी बचें अन्यथा दिया गया धन वापस आने में संदेह |
मीन राशि- राशि से लाभभाव में बृहस्पति का वक्री होना परिवार के बड़े सदस्यों से मतभेद तो पैदा कर सकता है किंतु लाभ मार्ग प्रशस्त
होगा, रुका हुआ धन आएगा | विद्यार्थियों के लिए यह समय किसी वरदान से कम नहीं है, इसलिए परीक्षा में अच्छी सफलता के लिए
पढ़ाई में भी अधिक समय लगाएं | प्रेम संबंधों में समय नष्ट न करें |

सूर्य के बृषभ राशि में प्रवेश के साथ ही गर्मी का युवाकाल आरम्भ

सूर्यदेव अपनी उच्चराशि मेष की यात्रा समाप्त करके 14 मई को शायं  05 बजकर 14 बृषभ राशि में प्रवेश कर रहे हैं | इनके बृषभ राशि में प्रवेश के साथ ही
ग्रीष्मऋतु की युवावस्था आरम्भ हो जायेगी और 24 मई की मध्य रात्रि पश्च्यात इनके रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश के साथ ही
गर्मी का चरम 'नौतपा' भी आरम्भ हो जायेगा | इनकी तपिश के परिणामस्वरुप मानसून बनने की प्रक्रिया का शुभारम्भ भी हो जाएगा |
शास्त्र कहते है कि केवल सूर्य की ही आराधना से सभी ग्रहदोषों से मुक्ति मिलती है | प्रत्यक्ष देवता सूर्य और चन्द्र में दोनों में ही पूर्व के
जन्मों के पाप शमन करने शक्ति रहती है | 'पूर्व जन्म कृतं पापं व्याधि रूपेण जायते' अर्थात पूर्व के जन्मों में किया गया पाप रोग के रूप में
उत्पन्न होता है | इन्हें अर्घ्य देकर और प्रणाम करके ही प्राणी भवसागर से मुक्त हो जाता है | जैसे रत्नों का आश्रय मेरुपर्वत, आश्चर्यों का
आश्रय आकाश, तीर्थों का आश्रय गंगा हैं उसी प्रकार सभी देवाताओं के आश्रय भगवान सूर्य हैं | देवगण भी भगवान सूर्य की ही आराधना
करते हैं | इस चराचर जगत में सभी प्राणियों के ह्रदय के ही सूर्य का निवास है यही जगतात्मा हैं | इनके बृषभ राशि में प्रवेश का सभी बारह
राशियों पर कैसा प्रभाव पड़ेगा इसका ज्योतिषीय विश्लेषण करते हैं |

मेष राशि- राशि से द्वितीयभाव में सूर्य का गोचर स्वास्थ्य की दृष्टि से कुछ प्रतिकूल रहेगा, विशेषकर के दाहिनी आंख से संबंधित समस्या से सावधान
रहना पड़ेगा, अग्नि, विष तथा दवाओं के रिएक्शन से भी बचना पड़ेगा कार्यक्षेत्र में षड्यंत्र का शिकार होने से बचें | परिवार में विघटन न पैदा होने दें |
कठोर वाणी का प्रयोग करने से बचें, ज़िद और आवेश पर नियंत्रण रखें | किसी महंगी वस्तु का क्रय करेंगे |
वृषभ राशि- आपकी राशि पर सूर्य, बुध और शुक्र का गोचर मिलाजुला फल देगा, हो सकता है शारीरिक पीड़ा से आपको परेशानी भी हो, शरीर में कैल्शियम
की कमी ना होने दें | दैनिक व्यापारियों के लिए समय अपेक्षाकृत अनुकूल है | विद्यार्थियों के लिए शिक्षा-प्रतियोगिता में अच्छी सफलता हासिल करने के
योग | शोधपरक एवं रचनात्मक कार्यों में अच्छी सफलता के साथ-साथ सम्मान भी हासिल होगा |
मिथुन राशि- राशि से बारहवें भाव में सूर्य का गोचर अत्यधिक व्यय करवाएगा, बाई आंख से संबंधित समस्या आ सकती है इसका ध्यान रखें | यात्रा
सावधानी पूर्वक करें | किसी अप्रिय समाचार से मन दुखी रहेगा, परिवार के बड़े सदस्यों से मतभेद ना पैदा होने दें | सामाजिक कार्यों में बढ़ चढ़कर
हिस्सा लेंगे और दान पुण्य भी करेंगे | विदेशी कंपनियों में सर्विस हेतु आवेदन करना लाभदायक रहेगा |
कर्क राशि- राशि से लाभभाव में सूर्य का गोचर सभी विषम परिस्थितियों से छुटकारा दिलाएगा | कोर्ट कचहरी के मामलों में भी निर्णय आपके पक्ष में
आने के संकेत | परिवार के वरिष्ठ सदस्यों विशेषकर के बड़े भाइयों से मतभेद ना पैदा होने दें | उच्चाधिकारियों से भी मधुर संबंध बनाकर रखेंगे, तो
कार्य बाधाओं से मुक्ति मिलेगी | आपके द्वारा लिए गए निर्णय एवं किए गए कार्यों की सराहना भी होगी |
सिंह राशि- राशि से दशमभाव में सूर्य का गोचर आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है, कार्य व्यापार में उन्नति के साथ-साथ पद और गरिमा की
भी वृद्धि होगी सामाजिक प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी | आपके कुशल नेतृत्व को देखते हुए कार्यभार में भी बढ़ोतरी की जाएगी | नौकरी में स्थान परिवर्तन अथवा
नए अनुबंध पर हस्ताक्षर करने का उपयुक्त समय | मकान वाहन के क्रय से संबंधित संकल्प पूर्ण होंगे |
कन्या राशि- राशि से भाग्यभाव में सूर्य, बुध और शुक्र का रहना किसी वरदान से कम नहीं है किंतु, कई बार आपका कार्य होते होते भी रुक जाया करेगा
इसलिए कोई भी कार्य या योजना जब तक पूर्ण न कर लें उसे सार्वजनिक ना करें | लोग आप को नीचा दिखाने की अथवा आपके खिलाफ षड्यंत्र रचने की
पूरी कोशिश करेंगे, सावधान रहें | विदेशी कंपनियों में नौकरी के लिए आवेदन करने का अच्छा समय |
तुला राशि- राशि से अष्टमभाव में तीन ग्रहों का होना आपको महाप्रतापी बनाएगा, अपने कठिन परिश्रम एवं कठोर निर्णय लेने के कारण आपका मान
सम्मान और यश बढ़ेगा किंतु इसी से आपके गुप्त शत्रु ही पैदा होंगे | प्रयास करें कि कार्य संपन्न करें और विवादों से दूर रहते हुए सीधे अपने निवास
स्थान पर आएं | स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहे अग्नि, विष तथा दवाओं के  रिएक्शन से बचें |
वृश्चिक राशि- राशि से सप्तम भाव में सूर्य का गोचर दैनिक व्यापारियों के लिए तो उत्तम रहेगा किंतु, ससुराल पक्ष से रिश्तो में कुछ कड़वाहट आने
के संकेत | विवाह संबंधित वार्ता सफल रहेगी | केंद्र अथवा राज्य सरकार के प्रमुख प्रतिष्ठानों से संबंधित कोई कार्य रुका हो तो उसे संपन्न कराएं,
सफलता मिलेगी |माता पिता के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें, अधिकारियों से मतभेद न पनपने दें |
धनु राशि- राशि से शत्रुभाव में सूर्य का गोचर आपको विषम परिस्थितियों से लड़ने में मदद करेगा, शत्रु परास्त होंगे और कोर्ट कचहरी के मामले में
निर्णय आपके पक्ष में आने के संकेत | ननिहाल पक्ष से रिश्तो में कड़वाहट आ सकती है इसे बढ़ने दें | अत्यधिक भागदौड़ और खर्च के कारण कुछ
मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ेगा अपने इष्ट बंधुओं अथवा मित्रों से अशुभ समाचार के योग |
मकर राशि- राशि से पंचमभाव में सूर्य का गोचर और साथ ही बुध तथा शुक्र की उपस्थिति संतान संबंधी चिंता से मुक्ति दिलाएगी यहांतक कि,
नव दंपत्ति के लिए संतान प्राप्ति एवं प्रादुर्भाव के भी योग हैं | प्रेम संबंधी मामलों में मतभेद के संकेत | शोधपरक कार्यों में लगे प्रतियोगी छात्रों
के लिए यह समय और बेहतर है | व्यापारिक वर्ग के लिए समय अनुकूल है रुका हुआ धन आएगा आय के स्रोत बढ़ेंगे |
कुंभ राशि- राशि से चतुर्थभाव में सूर्य का गोचर मिलाजुला फल देगा | पारिवारिक कलह के कारण मानसिक अशांति का सामना करना पड़ सकता है |
माता पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें | वाहन क्रय करने के सपने में भी कुछ बाधा आ सकती है इसे ग्रह योग समझकर परेशान ना हो | मित्रों से
कुछ निराशा हाथ लगेगी इस अवधि के मध्य अधिक कर्ज के लेन-देन से बचें, अन्यथा दिये गए धन की वापसी में संदेह |
मीन राशि- राशि से पराक्रम भाव में सूर्य का गोचर आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है | साहस और पराक्रम की वृद्धि तो होगी ही ऊर्जा शक्ति
की भी अधिकता रहेगी जिसके कारण विषम हालात पर भी नियंत्रण पा लेंगे | आपके द्वारा किए गए कार्यों की सराहना होगी किंतु परिवार के सदस्यों
से मतभेद न पैदा होने दें | विदेशी कंपनियों में सर्विस हेतु आवेदन अथवा विदेशी नागरिकता के लिए वीजा आवेदन करना शुभ रहेगा |

रविवार, 10 मई 2020

कहीं शनि आपकी राशि के लिए घातक तो नहीं !

कहीं शनि आपकी राशि के लिए घातक तो नहीं !
शनिदेव की साढ़ेसाती का नाम आते ही प्राणी किसी न किसी कारण से बेचैन होने लगते हैं कि ये साढ़ेसाती उनके लिए शुभ रहेगी याअशुभ | सत्य ये है कि इनकी साढ़ेसाती, ढैया और मारकेश दशा के रूप में गोचरकाल प्राणियों के अच्छे बुरे कर्मों के अनुसार उन्हेंपुरस्कार तथा दंड देने के लिए ही आता है | प्राणी के कर्म अच्छे हैं तो अशुभ प्रभाव कम होगा और उसे अच्छे फल मिलेंगे किंतु,प्राणियों के कर्म ज्यादा बुरे हैं तो अशुभ प्रभाव अतिशय पीड़ादाई होगा | जाने शनि की साढ़ेसाती और उनके गोचर काल के प्रभावके बारे में |क्या है शनि की साढ़ेसाती-अपने गोचरकाल में शनिदेव एक राशि पर ढाई वर्ष रहते हैं | जब यह आपकी जन्म राशि से पहले, दूसरे और बारहवें स्थानों मेंभ्रमण करते हैं तो यह काल शाढ़े सात वर्ष का रहता है और इसे ही साढ़ेसाती कहते हैं | ज्योतिष सूत्र के अनुसारद्वादशे जन्मगे राशौ द्वितीये च चनैश्चरः | सार्द्धानि सप्तवर्षाणि तदा दुःखैर्युतो भवेत् |शनि गोचर से बारहवें स्थान पर हों तो सिर पर, जन्म राशि पर हों तो हृदय पर और जन्म राशि से द्वितीय स्थान में हों तोपैर पर उतरती साढ़ेसाती के रूप में अपना प्रभाव डालते हैं | जन्म राशि से चतुर्थ और अष्टम स्थानों पर गोचर करते हुए शनिकी ढैया रहती है, जो ढ़ाई वर्षतक चलती है यह भी जातक के लिए अति कष्टकारी रहती है | शनि का पाया विचार-शनि के राशि परिवर्तन के समय यदि चंद्रमा पहले, छठे और ग्यारहवें स्थान में हों तो सोने का पाया, दूसरे, पांचवें में तथा नवमस्थान में हो तो चांदी के पाये पर गोचर करते कहलाते हैं | जब शनिदेव तीसरे, सातवें एवं दसवें स्थान में हों तो तांबे का पायाऔर चौथे, आठवें तथा बारहवें स्थान में हो तो लोहे के पाए पर गोचर करते हुए माने गए हैं | सोने के पाए पर हों तो सुखों कोदेने वाले, चांदी के पाये पर गोचर करते हुए सौभाग्य बढ़ाने वाले और ताबे के पाए पर गोचर करते हुए शनि मध्यम फल देते हैंजबकि लोहे के पाए पर गोचर करते हुए शनि अनेक प्रकार के कष्ट एवं धन हानि करते हैं | राशियों पर इनका प्रभाव-यदि शनि जातक के जन्म के समय मिथुन, कर्क, कन्या, धनु अथवा मीन राशि पर गोचर कर रहे हों तो मध्यम फलदाई होतेहैं | मेष, सिंह और वृश्चिक पर गोचर करते हुए शनिदेव प्रतिकूल प्रभाव देने के लिए तत्पर रहते हैं | वृषभ तुला मकर औरकुंभ राशि वालों के लिए शनि हमेशा लाभदायक रहते हैं इन राशियों में इनके गोचर करते समय जो जातक जन्म लेते हैं उनकेजीवन में एक समय ऐसा अवश्य आता है जब ये जातक को रंक से राजा बना देते हैं | ऐसे व्यक्तियों के जीवन में आकस्मिकताका प्रभाव सर्वाधिक रहता है | लोग जनप्रिय होते हैं और छोटे स्तर से कार्य करके कामयाबी की बुलंदी तक पहुंचते हैं |शनि की शाढ़े साती अथवा मारकेश में सर्वाधिक पीड़ा पाने वाले कौन-शनिदेव अपनी साढ़ेसाती या ढैय्या या मारकेश दशा में ऐसे लोगों को अत्यधिक कष्ट पहुंचाते हैं जो, विश्वासघाती, गुरुजनों सेधोखा करने वाले, अति झूठ बोलने वाले, मित्रों से झूठ बोलकर उनको हानि पहुंचाने वाले, कृतघ्न, न्यायालय में झूठी गवाहीदेने वाले, भिखारियों को अपमानित करने वाले, अति स्वार्थी, धूर्तता या चालाकी से धन हड़पने वाले, बुजुर्गों को अपमानितकरने वाले, रिश्वत लेने वाले, व्यभिचार में लिप्त तथा नशा करने वाले, चींटी, कुत्ते या कौवे को मारने वाले होते हैं |

बुधवार, 6 मई 2020

मंगल का मकर में प्रवेश और शनि के साथ उनकी युति

मंगल का मकर में प्रवेश और शनि के साथ उनकी युति
महान ग्रह मंगल 22 मार्च की रात्रि 10 बजकर 06 मिनट पर धनु राशि की यात्रा संपन्न करके अपनी उच्चराशि मकर में प्रवेश करेंगे, जहां ये पहले
से ही विराजमान शनिदेव के साथ युति करेंगे | मकर राशि में ये 04 मई की की रात्रि 08 बजकर बजकर 37 मिनट तक रहने के पश्च्यात कुंभ राशि
में प्रवेश करेंगे | मकर राशि शनिदेव की अपनी राशि है और मंगल की उच्चराशि है अतः यह संयोग कम विनाशक सिद्ध होगा फिर भी शनि-मंगल की
इस युति का सभी बारह राशियों पर कैसा प्रभाव रहेगा इसका ज्योतिषीय विश्लेषण करते हैं |
मेष राशि-  राशि से दशम भाव में मंगल का उच्चराशिगत होना आपके लिए तरह-तरह की कामयाबी दिलाएगा विशेष करके नौकरी में पदोन्नति एवं
नए अनुबंध की प्राप्ति के भी योग बनाएगा किंतु स्वभाव पर इन की नीच दृष्टि के प्रभाव स्वरूप पारिवारिक कलह से मानसिक पीड़ा बढ़ सकती है |
माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें, भूमि भवन एवं अचल संपत्ति का योग, सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी एवं कार्यक्षेत्र का विस्तार भी होगा |
वृषभ राशि- राशि से भाग्यभाव में उच्चराशिगत मंगल कई तरह के अप्रत्याशित परिणाम दिलाएगा, विदेश यात्रा अथवा विदेशी व्यक्तियों से संपर्क बढ़ेगा
किंतु ध्यान रहे आपकी राशि के लिए मंगल नुकसानदेय भी हो सकते हैं | इस अवधि के मध्य सभी निर्णय दिल की बजाए दिमाग से लें | पराक्रम
की वृद्धि तो होगी किंतु, परिवार के बड़े सदस्यों अथवा बड़े भाइयों से मतभेद न पैदा होने दें | झगड़े विवाद से बचें, यात्रा सावधानीपूर्वक करें |
मिथुन राशि- राशि से अष्टमभाव में उच्चराशिगत मंगल आपको प्रतापी एवं आक्रामक बनाएंगे फिर भी, कार्यक्षेत्र में झगड़े विवाद से बचें | स्वास्थ्य
का ध्यान रखें वाहन सावधानी पूर्वक चलाएं दुर्घटना से बचें | कोर्ट कचहरी के मामले बाहर ही सुलझा लें तो बेहतर रहेगा | इनकी नीच दृष्टि धनभाव
पर पड़ रही है जिसके परिणामस्वरूप अप्रत्याशित रुप से धन हानि की संभावना भी बनती है अतः लेन-देन के मामलों में भी सावधानी बरतें |
कर्क राशि- राशि से सप्तमभाव में उच्चराशिगत मंगल आपके लिए कई मायनों में किसी वरदान से कम नहीं है किंतु यह भी संभावना बनती है कि
शादी- विवाह से संबंधित मामलों में विलंब हो | दैनिक व्यापार से अधिक लाभ होगा | इनका शुभ प्रभाव आपके कार्य क्षेत्र का विकास करेगा सामाजिक
प्रतिष्ठा बढ़ेगी नौकरी में पदोन्नति एवं नए अनुबंध की प्राप्ति के भी योग बनेंगे, आपको चाहिए कि मंगल के इस गोचर का भरपूर लाभ उठाएं |
सिंह राशि- राशि से छठे शत्रुभाव में उच्चराशिगत मंगल आपके विरोधियों का पूर्णतः शमन कर देंगे | कोर्ट कचहरी के मामले भी आपके पक्ष में आने
के संकेत | इस अवधि के मध्य केंद्र अथवा राज्य सरकार से संबंधित रुके हुए आपके कार्यों का निपटारा होगा | नौकरी में उन्नति एवं नए अनुबंध की
प्राप्ति के भी योग, उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बनाकर रखें और जबतक अपनी योजनाएं पूर्ण न हो जाए उसे सार्वजनिक न करें |
कन्या राशि- राशि से पंचमभाव में मंगल शिक्षा प्रतियोगिता में अच्छी सफलता देंगे, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के विद्यार्थियों के लिए तो यह गोचर किसी
वरदान से कम नहीं है, शिक्षा प्रतियोगिता में अच्छी सफलता हासिल होगी | संतान संबंधी चिंता से मुक्ति मिलेगी, नव दंपति के लिए संतान प्राप्ति एवं
प्रादुर्भाव के योग बन रहे हैं | सरकारी सर्विस हेतु आवेदन करने का बेहतर अवसर, अपनी जिद और आवेश पर नियंत्रण रखते हुए आगे बढ़ें |
तुला राशि- राशि से चतुर्थ भाव में मारकेश मंगल का गोचर आपके लिए मिलाजुला फल देने वाला सिद्ध होगा | कार्य व्यापार में भी स्थितियां सामान्य रहेंगी पारिवारिक कलह एवं मानसिक अशांति से आप कहीं न कहीं अपने आपको परेशान महसूस करेंगे | माता पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए परिवार में
विघटन न होने दें | इन सबके बावजूद भूमि भवन एवं वाहन के सुख प्राप्ति का योग बन रहा है यात्रा के समय सामान चोरी होने से बचाएं |
वृश्चिक राशि- राशि से पराक्रम भाव में उच्चराशिगत मंगल आपके लिए बेहतरीन सफलता लेकर आ रहे हैं साहस एवं पराक्रम की वृद्धि होगी और इसी के
बलपर आप विषम हालात को भी सामान्य कर लेंगे | मान सम्मान और सामाजिक प्रतिष्ठा तो बढ़ेगी ही विदेश यात्रा एवं देशाटन का लाभ मिलेगा, यहांतक
कि किसी अन्य देश की नागरिकता के लिए वीजा आदि के लिए आवेदन करना चाह रहे हों तो गोचर अच्छी सफलता के संकेत दे रहा है |
धनु राशि- राशि से धनभाव में मंगल का गोचर कुछ पारिवारिक कलह तो दे सकता है किंतु आर्थिक पक्ष बहुत मजबूत करेगा कहीं से रुका हुआ धन आएगा,
और आकस्मिक धन प्राप्ति के योग भी बनेंगे | नए अनुबंध पर हस्ताक्षर करना हो अथवा स्थान परिवर्तन हेतु प्रयास करना हो तो यह अवसर अच्छा रहेगा  स्वास्थ्य का ध्यान रखें और यात्रा सावधानीपूर्वक करें | बेहतर रहेगा कि कार्य क्षेत्र से कार्य निपटाए और सीधे घर आएं |
मकर राशि- आपकी राशि में पहले से ही विद्यमान शनिदेव के साथ मंगल का आगमन कई अप्रत्याशित परिणाम देगा | आप कोई भी बड़े से बड़ा निर्णय भावनाओं में बहकर न लें झगड़े विवाद से बचें | कार्यव्यापार की दृष्टि से यह युति बेहतरीन सिद्ध होगी | स्वास्थ्य के प्रति हमेशा सतर्क रहें, वाहन सावधानी
पूर्वक चलाएं | जमीन जायदाद से जुड़े हुए मामलों का निपटारा होगा और कोर्ट कचहरी के मामले आपके पक्ष में आने के संकेत |
कुंभ राशि- राशि से व्ययभाव में उच्च राशि का मंगल का जाना अत्यधिक यात्राएं तो कराएगा ही, साथ ही आर्थिक तंगी भी ला सकता है इसलिए अपव्यय
से बचें | कोर्ट कचहरी के मामले भी बाहर ही सुलझा लें तो बेहतर रहेगा | अपनी जिद एवं आवेश पर नियंत्रण रखते हुए कार्य करेंगे तो सफलता वृद्धि होगी
अन्यथा तनाव अधिक रहेगा जिसके फलस्वरूप आपका स्वास्थ्य प्रभावित होगा | अधिक के कर्ज़ के लेन-देन से बचें |
मीन राशि- राशि से लाभभाव में उच्चराशि गत मंगल आपके सभी अरिष्टों का शमन करेंगे, इसलिए यदि आप अपनी योजनाओं को सही रूप से चलाएंगे
तो पिछले दिनों के हुए नुकसान की भरपाई हो जाएगी इन सबके बावजूद बड़े भाइयों से मतभेद बढ़ सकता है इसे ग्रह योग समझकर तूल न दें | व्यापारिक
वर्ग के लिए यह गोचर और भी बेहतर रहेगा विद्यार्थियों को शिक्षा प्रतियोगिता में अच्छी सफलता के योग, नौकरी के लिए आवेदन करें |